[7 Steps] ध्यान कैसे करें: Meditation Kaise Kare? 2022

इस आर्टिकल में आप जानेंगे कि 7 Steps में ध्यान कैसे करें: Meditation Kaise Kare? | How to Meditate In Hindi 2022 | जानिए घर पर मेडिटेशन कैसे करें? या फिर Pregnancy Me Meditation Kaise Kare?

इसमें हम आपको बताएंगे कि (Meditation) क्या है? और अपने मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए Meditation Kaise Kare जाते हैं? 

हम सभी अपने जीवन में लंबे समय तक तथा दीर्घकालिक लाभ प्राप्त करने के लिए ध्यान का अभ्यास करते हैं, ध्यान की सहायता से हम अपने तनाव के स्तर को कम कर सकते हैं और स्वयं को बेहतर तरीके से जान सकते हैं।

Advertisement

इसलिए इस लेख में हम आपको यह बताएंगे कि (Meditation) ध्यान क्यों करना चाहिए? इसके अलावा ध्यान करने के लाभ क्या है? जिससे आप भी ध्यान को लेकर जागरूक बन सकते हैं और ध्यान का अभ्यास करके अपनी Life Ko Successful बना सकते हैं। 

हालांकि घर पर मेडिटेशन कैसे किया जाता है? इसके बारे में जानने से पहले आपको यह समझना जरूरी है कि मेडिटेशन क्या है?

Meditation Meaning in Hindi

हिंदी में Meditation का मतलब

Advertisement
ध्यान अथवा समाधि होता है, यह एक ऐसा मानसिक अभ्यास होता है; जिसमें मनुष्य अपने मन को शांति रखने के लिए किसी शांत जगह पर बैठकर अपने मन और चित्त को शांत रखने का प्रयास करता है।

मेडिटेशन क्या है? (What is Meditation)

अगर आप Meditation को और आसान भाषा में समझना चाहते हैं, तो इसका मतलब होता है; कि Meditation मनुष्य के दिमाग को शांत रखने की एक आसान प्रक्रिया है और इससे मानसिक तनाव से छुटकारा मिलता है। इसके साथ ही यह आपके मन में नई ऊर्जा का संचार करता है और मानसिक एकाग्रता को बढ़ा देता है। 

आमतौर पर Meditation को हिंदी में लोग ध्यान लगाना भी कहते हैं, ध्यान लगाते समय आप अपने मन को अपनी सांसो पर केंद्रित करना सीख रहे होते हैं, कि सांस किस प्रकार से अंदर तथा बाहर आती जाती है और इस दौरान आपको यह भी ज्ञात होगा कि आपका दिमाग कैसे विचलित होता है? 

इस बात पर ध्यान दें, कि जब हम ध्यान का अभ्यास कर रहे होते हैं, तो हम अपने दिमाग को अपनी सांसो पर केंद्रित करते हैं, जो हमारे दिमाग को बेहतर ढंग से कार्य करने के लिए प्रशिक्षित करता है। 

अक्सर जब कोई शुरुआती (Beginner) Meditation का अभ्यास करने को सोचता है तो वह इस बात को लेकर परेशान रहता है, कि Meditation Kaise Karte Hain?

Meditation के संपूर्ण लाभ को प्राप्त करने के लिए यह आवश्यक है, कि आप इसे सही तरीके से करें? इसलिए आपकी सहायता के लिए हमने How To Meditate In Hindi Guide को तैयार किया है, जिसे पढ़ने के बाद आप यह जान पाएंगे कि Meditation Kaise Kiya Jata Hai?

हमने इस आर्टिकल में ध्यान (Meditation) से संबंधित समस्त जानकारी प्रदान की है, इसलिए कृपया पूरा आर्टिकल पढ़ें।

Poster of Meditation Kaise Karen

ध्यान के प्रकार: (Types of Meditation)

Meditation Kaise Kiya Jata Hai? इसके बारे में जानने से पहले, आपको यह जान लेना चाहिए कि मेडिटेशन कितने प्रकार के होते हैं?

वैसे तो ध्यान के बहुत से प्रकार होते हैं, लेकिन आमतौर पर लगभग सभी प्रकार के ध्यान का मकसद सिर्फ एक ही होता है, जो कि अपने मन को किसी एक चीज पर स्थिर करना है। 

हालांकि मुख्य रूप से 7 प्रकार के ध्यान जो कि नीचे सूचीबद्ध किए गए हैं, वे बहुत ही फायदेमंद होते हैं।

  1. माइंडफूलनेस ध्यान (mindfulness meditation)
  2. दृश्य ध्यान (visualisation meditation)
  3. transcendental meditation
  4. आध्यात्मिक ध्यान (spiritual meditation)
  5. movement meditation
  6. focused meditation
  7. मंत्र ध्यान (mantra meditation)

(Meditation) ध्यान कितनी देर करना चाहिए? 

वैसे तो यह आपके ध्यान कौशल पर निर्भर करता है; कि आप कितनी देर तक Meditation कर सकते हैं?

लेकिन आमतौर पर Meditation का लाभ प्राप्त करने के लिए 10 से 15 मिनट का ध्यान काफी होता है। 

इसके अलावा आप 5 मिनट के लिए भी Meditation कर सकते हैं; जब आप ध्यान लगाना अच्छे से सीख जाएंगे; तो आप इस समय को बढ़ा भी सकते हैं।

चलिए अब जान लेते हैं कि मेडिटेशन कैसे करें?

ध्यान कैसे करें – Meditation Kaise Kare?

आमतौर पर Meditation बौद्ध धर्म तथा हिंदू धर्म से ली गई एक परंपरा है, जिसका मुख्य उद्देश्य अपने मन के विचारों को नियंत्रित करना और अपने मन को समझना है, और शांति प्राप्त करने के साथ जागरूकता के उच्च स्तर तक पहुंचना होता है। 

Meditation Kaise Kare? इसके बारे में समझना बहुत ही आसान है और ध्यान करने से संबंधित आगे बताए गए स्टेप्स को जानने के पश्चात आपको How to Meditate In Hindi के बारे में पता चल जाएगा।

ध्यान करना बहुत ही आसान है, हालांकि आपको शुरुआती समय में कुछ कठिनाइयां महसूस हो सकती है। इसलिए आप ध्यान करते समय हमारे द्वारा नीचे बताए गए सुझाव को अपना सकते हैं। 

1. एक शांतिपूर्ण वातावरण का चयन करें

Meditation करने के लिए सर्वप्रथम आपको कोई एक शांतिपूर्ण वातावरण का चयन करना चाहिए, क्योंकि एक शांत वातावरण; आपका ध्यान Meditation पर केंद्रित करने में मदद करेगा और बाहरी चीजों से विचलित होने से बचने में सक्षम बनाएगा।

इसलिए सर्वप्रथम ऐसी जगह चुने, जहां पर आप ध्यान की अवधि तक किसी चीज से विचलित ना हो। शांतिपूर्ण वातावरण का चुनाव करने के कारण नीचे सूचीबद्ध किए गए हैं।

  1. अक्सर नए लोग Meditation करते वक्त बाहरी विकर्षणों से विचलित हो जाते हैं, और नए लोगों को इन चीजों से बचना बहुत महत्वपूर्ण है।
  2. ध्यान लगाने वाली जगह पर उपलब्ध अपने फोन तथा अन्य उपकरण बंद कर दें, क्योंकि यह एकाग्रता को भंग करके; ध्यान लगाते वक्त आपके मन को विचलित करते हैं।
  3. ध्यान लगाने के लिए आप किसी बगीचे अथवा कोई पेड़ के नीचे की साफ सुधरी जगह को चुन सकते हैं।
  4. हालांकि यह जरूरी नहीं है कि आप ऐसी जगह पर Meditation का अभ्यास करें, जहां पर बिल्कुल भी आवाज ना हो। 
  5. कुछ परिस्थितियों जैसे प्राकृतिक आवाजें, जानवरों, पंछियों आदि की आवाजें, जिन्हें आप कंट्रोल नहीं कर सकते हैं। इस परिस्थिति में आपको अपने मन को Meditation पर केंद्रित करना सीखना होगा।

2. आरामदायक वस्त्र धारण करें

Meditation का अभ्यास करते वक्त आपका लक्ष्य होना चाहिए कि आप बाहरी विकर्षणों से विचलित ना हो और अपने मन को शांत रखना है।

इसलिए यदि आप ध्यान लगाते वक्त बेहद तंग कपड़े पहने रहते हैं, तो यह आपके अभ्यास में विघ्न डाल सकता है। इसलिए Meditation का अभ्यास करते वक्त सुनिश्चित करें कि आप ढीले वस्त्र पढ़ने और जूतों को पैरों से उतार कर रखें।

साइड नोट: यदि आप किसी ऐसी जगह पर Meditation का अभ्यास कर रहे हैं, जैसे किसी ट्रिप पर, तो वहां आप यदि अपने वस्त्र नहीं बदल सकते हैं, तो जितना हो सके खुद को आरामदायक स्थिति में बनाने की कोशिश करें।

हालांकि कुछ परिस्थितियों में जैसे जब आप किसी ठंडी जगह पर Meditation का अभ्यास करने की योजना बना रहे होते हैं, तो वहां पर आपके पास ठंड से बचने का कोई ना कोई तरीका तो होना ही चाहिए। इस परिस्थिति में आप अपने साथ कोई कंबल ले जा सकते हैं, या स्वेटर आदि पहन सकते हैं।

3. Meditation करने का समय निर्धारित करें

woman doing meditation at sunrise

मेडिटेशन के लिए आप सुबह का समय चुन सकते हैं। हालांकि Meditation का अभ्यास करने से पहले आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए; कि आप कितने समय के लिए Meditation का अभ्यास करने जा रहे हैं?

Meditation के अनुभवी लोगों के अनुसार इसका अभ्यास दिन में दो बार 20 मिनट के सत्र तक करना चाहिए। 

लेकिन अगर आप ध्यान में बिल्कुल नए हैं; या पहली बार मेडिटेशन करने जा रहे हैं, तो वह आप दिन में एक बार के लिए 5 मिनट से कम का समय भी चुन सकते हैं।

साइड नोट: आपको Meditation अभ्यास के समय सीमा पर नजर बनाए रखने के लिए, कोई ऐसा तरीका खोजना चाहिए; जिससे आप अपने ध्यान की समय सीमा समाप्त होने पर सचेत हो जाएं। इसके लिए आप चाहे तो कोई अलार्म सेट कर सकते हैं।

जब आप एक बार Meditation करने की समय सीमा निर्धारित कर लेते हैं, तो आपको उसी समय सीमा पर टिके रहने का प्रयास करना चाहिए। 

कभी-कभी आपको लगेगा कि आप Meditation का अभ्यास नहीं कर पा रहे हैं, या आपने जितने समय तक Meditation करने का निश्चय किया था, उतने समय तक आप नहीं कर पा रहे हैं, तो आपको हार नहीं मानना चाहिए।

4. Meditation करने से पहले स्ट्रेचिंग करें

woman stretching before meditation

आमतौर पर आपको Meditation का अभ्यास करने से पहले एक निर्धारित समय के लिए सहज मुद्रा में बैठना होता है। इसलिए ध्यान अभ्यास शुरू करने से पहले यह आवश्यक होता है, कि आप अपने शरीर में उपस्थित तनाव अथवा जकड़न को बाहर निकाल दें।

साइड नोट: Meditation करने के लिए तैयार होने से पहले स्ट्रेचिंग करना काफी मददगार साबित होता है, यह आपको ध्यान के अभ्यास के लिए मानसिक और शारीरिक दोनों रूप से तैयार करता है। 

इसके अलावा आप ध्यान करने से पहले योगाभ्यास कर सकते हैं। इसकी मदद से आप अपने शरीर के किसी हिस्से में होने वाले, किसी दर्द के कारण ध्यान से विचलित होने से भी बचेंगे।

5. आरामदायक स्थिति में बैठें

इतना सब कुछ कर लेने के बाद आपको यह सुनिश्चित करना है, कि आप एक आरामदायक मुद्रा में बैठे हैं, क्योंकि Meditation का अभ्यास करते वक्त किसी भी प्रकार से विचलन से बचने के लिए यह आवश्यक है, कि आप सहज हों।

परंपरागत रूप से Meditation जमीन पर बिछी हुई चटाई या कुशा पर कमल की स्थिति में बैठकर किया जाता है।

साइड नोट: आप चाहे तो आप कुर्सी पर भी बैठकर Meditation कर सकते हैं। इस बात का ध्यान रखें कि Meditation करने के लिए बैठने के बाद अपने रीढ़ को सीधा रखें।

कृपया ध्यान दें: अगर आपको रीढ़ अथवा पीठ से संबंधित किसी प्रकार की समस्या है, तो आपको अपने डॉक्टर से बात करना चाहिए और इस बात की जांच करनी चाहिए कि आपके लिए कौन सी ध्यान मुद्रा अधिक सुरक्षित और आसान है।

6. ध्यान पर अपना मन केंद्रित करने के लिए अपनी आंखें बंद करें

वैसे तो आप Meditation का अभ्यास खुली अथवा बंद दोनों ही आंखों से कर सकते हैं, लेकिन नए लोगों को बाहरी चीजों से विचलित होने से बचने के लिए आंख बंद करके ही ध्यान का अभ्यास करना सहज होता है।

साइड नोट: एक बार जब आपको Meditation करने का अभ्यास हो जाता है, उसके बाद आप अपनी आंखें खुली रख कर ध्यान का अभ्यास कर सकते हैं।

यदि आप अपनी आंखें खुली रख कर Meditation का अभ्यास करते हैं तो आपको किसी एक वस्तु पर अपनी नजर केंद्रित ना करके, उसे Soft रखनी चाहिए।

7. अपनी सांसो पर ध्यान केंद्रित करें

woman focusing on her breath for meditation

सभी प्रकार के Meditation का सबसे बुनियादी अभ्यास सांस पर ध्यान देना होता है, इसलिए अब आपको अपनी सांसो पर ध्यान केंद्रित करना है और बिना किसी दबाव के सामान्य रूप से सांस अंदर लेना और बाहर करना है।

साइड नोट: आपको Meditation करने के दौरान, अपने सांस लेने के पैटर्न को नहीं बदलना चाहिए। इसके अलावा अभ्यास के दौरान आपको सिर्फ अपनी सांसो पर ध्यान केंद्रित करना है; ना कि सांस के बारे में सोचना है। 

उदाहरण के लिए आपको अपना ध्यान इस बात पर केंद्रित करना है, कि आप किस प्रकार से अंदर को ओर सांस ले रहे हैं; या किस प्रकार से बाहर की ओर सांस छोड़ रहे हैं, ना की इसके बारे में सोचना है, कि पिछली बार की सांस ज्यादा बड़ी थी या छोटी थी। 

इस प्रकार अपनी सांसो पर ध्यान केंद्रित करना ही Meditation कहलाता है।

अब हम आपको कुछ बेहतरीन टिप्स बताएंगे, जो आपके बेहतर ध्यान अभ्यास में आपकी मदद करेंगे और आप अपने घर पर मेडिटेशन करना सीख पाएंगे।

जानिए घर पर मेडिटेशन कैसे करें? 

आप अपने घर पर मेडिटेशन कैसे करें? इसके बारे में बेहतर तरीके से जानने के लिए नीचे दिए गए वीडियो को देख सकते हैं।

घर पर मेडिटेशन कैसे करें | Meditation at home for beginners

माइंडफूलनेस मेडिटेशन कैसे करें? 

माइंडफूलनेस मेडिटेशन कैसे किया जाता है? इसके बारे में जानने से पहले आपको यह पता होना चाहिए कि mindfulness meditation क्या होता है? 

आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि माइंडफूलनेस मेडिटेशन भी ध्यान करने की एक प्रक्रिया है, जिसमें आप कहीं पर भी अपने मन के विचारों को शांत करके ध्यान करने का अभ्यास कर सकते हैं।

माइंडफूलनेस मेडिटेशन का अभ्यास करने के लिए आपको कोई निश्चित समय निर्धारित करने की आवश्यकता नहीं होती है, आप कहीं पर भी और कभी भी माइंडफूलनेस मेडिटेशन अभ्यास कर सकते हैं।

माइंडफूलनेस मेडिटेशन करने की प्रक्रिया भी इस आर्टिकल में बताए गए ध्यान करने के अभ्यास के अनुसार बिल्कुल Same है।

मेडिटेशन के दौरान की जाने वाली गलतियां (Mistakes During Meditation) 

आपमें से बहुत सारे लोग मेडिटेशन का अभ्यास करने की सही जानकारी ना होने के कारण गलत तरीके से मेडिटेशन करते हैं। इस वजह से गलत तरीके से ध्यान का अभ्यास करने के कारण आपको बहुत सारे नुकसान भी झेलने पड़ सकते हैं।

अगर आप मेडिटेशन का संपूर्ण लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तब आपको आगे बताई गई मेडिटेशन के दौरान की जाने वाली गलतियों से बचना चाहिए।

  • कभी भी बंद जगह पर मेडिटेशन का अभ्यास ना करें, इसके बजाय ध्यान का अभ्यास करने के लिए खुले वातावरण का चयन करें।
  • रात के समय मेडिटेशन का अभ्यास करने से बचें, क्योंकि इससे आपको अनिद्रा के लक्षण देखने को मिल सकते है।
  • आपको बहुत लंबे समय तक मेडिटेशन का अभ्यास नहीं करना चाहिए।
  • रात के अंधेरे में मेडिटेशन का अभ्यास ना करें, इससे आपके मन में नकारात्मक विचार आ सकते हैं।

मेडिटेशन के दौरान ध्यान केंद्रित कैसे करें?

जब आप ध्यान का अभ्यास करने लगते हैं, तो आपका मन इधर-उधर विचलित होने लगता है। Meditation करते वक्त मन के इस विचलन से बचने के लिए हमेशा शांत जगह का चुनाव करें। अगर आप तनाव में हैं, तो अपने सामने किसी वस्तु को रख लें और उसे ध्यानपूर्वक देखें।

इसके अलावा सही ध्यान मुद्रा का चुनाव करें और फिर उसके बाद आंख बंद करके अपने मन के विचारों को अपनी सांस पर केंद्रित करें, इस प्रकार आप अपने मन को ध्यान पर केंद्रित कर सकते हैं।

ध्यान के चमत्कारिक अनुभव क्या हैं? 

जब आप ध्यान लगाने का अभ्यास करते हैं और धीरे-धीरे अपने मस्तिष्क के विचारों को नियंत्रित करना सीख जाते हैं, तब एक समय के पश्चात आपको ध्यान के कुछ चमत्कारिक अनुभवों का एहसास होता है।

आप नीचे दी गई सूची में देख सकते हैं कि 10 सबसे अच्छे ध्यान के चमत्कारिक अनुभव क्या है?

  1. मन में आंतरिक ऊर्जा का एहसास होना
  2. आनंद का एहसास होना
  3. Meditation के अभ्यास के दौरान सांसो की गति धीमी होना
  4. ध्यान करने पर नकारात्मक विचारों में कमी आना
  5. आंखों का आपस में चिपकना
  6. मन में तेज प्रकाश का ऐसा होना
  7. शारीरिक बदलाव आना
  8. प्रेरणा पाना
  9. शांति का अहसास होना
  10. सकारात्मक ऊर्जा का एहसास होना

मेडिटेशन के फायदे क्या हैं: Meditation Ke Fayde Kya Hai?

नियमित ध्यान के फायदे जानकर आपको मेडिटेशन का अभ्यास करने की प्रेरणा मिलेगी। चूंकि Meditation आपके मन में विचारों को नियंत्रित करने की एक प्रक्रिया है, जिसके बहुत सारे लाभ होते हैं, जिनका वर्णन मैंने नीचे किया है।

1. Meditation चिंता को कम करें

Meditation का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है; कि यह तनाव को कम कर सकता है; जिससे चिंता करने की समस्या में कमी आती है। लगभग 1300 वयस्क व्यक्तियों, जो अत्यधिक चिंता से ग्रसित थे, उनके साथ एक अध्ययन किया गया, जिसमें यह पता चला कि Meditation चिंता को कम कर सकता है।

इसके अलावा एक अध्ययन में पाया गया कि लगभग 8 सप्ताह तक Mindfulness Meditation करने वाले व्यक्तियों में चिंता के लक्षणों को कम करने में मदद मिली।

2. Meditation आत्म जागरूकता बढ़ाता है

Meditation करने से आप अपने बारे में एक अच्छी समझ के साथ आत्म जागरूकता विकसित कर सकते हैं। साथ ही साथ यह जान पाएंगे कि आप अन्य लोगों के साथ कैसे संबंधित रहते हैं?

इससे आप अपने मन में आने वाले उन नकारात्मक विचारों को दूर कर सकते हैं; जिन विचारों से आपको लगता है; कि आप स्वयं से हार जायेंगे। इसके अलावा यह आपके समस्या समाधान कौशल को भी बढ़ाता है।

3. Meditation तनाव को कम करे 

लोगों के द्वारा Meditation करने का सबसे मुख्य कारण यह होता है; क्योंकि Meditation आपके मन से तनाव को दूर रखने में मदद करता है।

आमतौर पर शारीरिक और मानसिक तनाव के कारण Cortisol नामक तनाव हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है, जो कई प्रकार के हानिकारक प्रभाव पैदा करता है।

यह अवसाद और चिंता को बढ़ाता है, आपकी नींद को बाधित करता है, इसके अलावा तनाव आपके रक्तचाप को बढ़ा सकते हैं; और थकान को बढ़ाकर सोचने की शक्ति को कम कर सकते हैं।

रिसर्च के अनुसार Meditation तनाव के लक्षणों को दूर करके तनाव से मुक्ति पाने में मदद करता है। इसके साथ ही ध्यान अनिद्रा से छुटकारा प्राप्त करने में मदद करता है।

आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके ध्यान करने के फायदे के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

मेडिटेशन के नुकसान क्या हैं? 

मेडिटेशन के कोई भी नुकसान नहीं है, लेकिन अगर आप गलत तरीके से मेडिटेशन करेंगे तो यह नुकसानदायक होता है। इसलिए अगर आप मेडिटेशन का अभ्यास गलत तरीके से करते हैं, तो आपको नीचे दिए गए नुकसान झेलने पड़ सकते हैं।

  • बहुत अधिक मोटिवेशन अथवा प्रेरणा का ना होना
  • बुरी यादों का ताजा होना 
  • मन में नकारात्मक विचारों का आना
  • अकेले रहने की आदत पड़ जाना
  • सर दर्द, थकान और कमजोरी आदि के शारीरिक लक्षण

भगवान का ध्यान कैसे करें? 

बहुत सारे लोगों का मेडिटेशन करने के पीछे का उद्देश्य यह होता है कि उन्हें अपनी अंतरात्मा को भगवान के साथ जोड़ना है और इसके साथ ही ईश्वर के प्रति अपनी रुचि को बढ़ानी होती है। 

अगर आप अभी उन लोगों में से एक हैं, लेकिन आपको नहीं पता है कि भगवान का ध्यान कैसे करें? तो आपके लिए हम यह सुझाव देते हैं कि भगवान का ध्यान करने के लिए आपको शुद्धता पूर्वक और अपने सच्चे मन से ध्यान का अभ्यास करना चाहिए।

आप भगवान का ध्यान करने के लिए अपने किसी भी प्रिय भगवान का कोई मंत्र जाप कर सकते हैं अथवा ओम मंत्र का जाप करते हुए यह काम शांति पूर्वक अपने पूजा स्थान में बैठकर कर सकते हैं।

भगवान का ध्यान करने के लिए आप नीचे बताए गए स्टेप्स को फॉलो कर सकते हैं।

  • सर्वप्रथम अपने मन में ईश्वर के प्रति रुचि लाएं
  • प्रतिदिन नित्य कर्म करने के पश्चात स्नान करके अपने पूजा स्थल में बैठे
  • भगवान का ध्यान लगाने के लिए किसी एक मंत्र का सहारा ले
  • अब भगवान का ध्यान करने के लिए सच्चे मन से meditation का अभ्यास करें।
  • अपने मन में विश्वास जगाए कि आप परमात्मा से जुड़ सकते हैं और प्रतिदिन ध्यान का अभ्यास करें।
  • इस अभ्यास से आप बहुत जल्द ही सच्चे ध्यान योगी बन जाएंगे।

मेडिटेशन की शक्ति क्या है? 

मेडिटेशन के इतने सारे फायदे होने के बावजूद बहुत सारे लोगों को यह जानने में उत्सुकता रहती है कि ध्यान में कितनी शक्ति है?

अगर योगी और ऋषियों जैसे महापुरुषों की बात मानी जाए तो उनके अनुसार मेडिटेशन में इतनी शक्ति है कि आप अपनी अंतरात्मा को परमात्मा के साथ जोड़ सकते हैं। इसके साथ ही आप मेडिटेशन का अभ्यास करके किसी भी असाध्य रोग से छुटकारा दिलाने वाली दिव्य शक्तियां हासिल कर सकते हैं।

क्योंकि ध्यान का अभ्यास करने से आपके मस्तिष्क में डोपामाइन हार्मोन का प्रवाह बढ़ जाता है, जिससे आपका आत्मविश्वास कई गुना बढ़ जाता है।

Meditation Kaise Kare पर आधारित FAQs 

यहां पर हमने आपके लिए Meditation Kaise Kare से संबंधित कुछ सवाल और उनके जवाब से संबंधित जानकारी दी है, जो आप लोगों के द्वारा काफी पूछे जाते हैं। इसलिए इन सवालों के जवाब आपको पता होने चाहिए, इसलिए article को पढ़ते रहें! 

Q1. मेडिटेशन का हिंदी क्या होता है?

Meditation का हिंदी ध्यान होता है।

Q2. (ध्यान) मेडिटेशन क्या है?

ध्यान यानी कि मेडिटेशन एक मानसिक अभ्यास है; जिसके कई लाभ है, यह मन और मानसिक विचारों को प्रशिक्षित करने का एक तरीका है। Meditation के विशेषज्ञों का कहना है; कि जिस प्रकार शारीरिक व्यायाम के माध्यम से शरीर को प्रशिक्षित किया जाता है; ठीक उसी प्रकार Meditation के माध्यम से मन को प्रशिक्षण दिया जाता है।

Q3. ध्यान में क्या-क्या अनुभव होते हैं?

जब आप Meditation का अभ्यास करते हैं, तो आपको कुछ विशेष अनुभव होते हैं, जिसमें आप अपने मन को नियंत्रित करना सीख जाते हैं और आपको असीम तथा दिव्य शक्तियों का अनुभव होता है।

Q4. ध्यान क्यों करते हैं?

वैसे तो ध्यान का अभ्यास बहुत सारे कारणों से किया जाता है, लेकिन ज्यादातर लोग ध्यान का अभ्यास अपने मन के विचारों को नियंत्रित करने के लिए तथा तनाव से मुक्त होने और शांति प्राप्त करने के लिए करते हैं।

Q5. क्या समूह में मेडिटेशन करना स्वयं अभ्यास करने से बेहतर है?

यहां पर इस बात का ध्यान देना चाहिए, कि दोनों ही प्रकार के ध्यान अभ्यास समान हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है; कि आपको किसमें ज्यादा अच्छा अनुभव मिलता है। जब आप समूह के साथ Meditation का अभ्यास करते हैं, तो यह Meditation में सहायक होता है। जब आप अकेले Meditation अभ्यास करते हैं तो यह आपको अनुशासित बनाता है।

Q6. सांसों पर ध्यान कैसे लगाएं?

अक्सर जब कोई नया व्यक्ति Meditation का अभ्यास करता है तो उसके सामने सबसे बड़ी समस्या हो यह होती है, कि उसका मन ध्यान के दौरान इधर-उधर विचलित होने लगता है। इसके लिए आप अपने मन को अपने नाक के पास लाकर अपनी सांसो को महसूस करें और अगर मन भटक जाए, तो पुनः उसी पर लाएं। अब आप यह प्रक्रिया बार-बार करेंगे तो एक समय आएगा जब आपका ध्यान स्वतः ही आपकी सांसो पर केंद्रित हो जाएगा। 

Q7. भगवान का ध्यान कैसे लगाएं?

भगवान का ध्यान लगाने के लिए आप Meditation के दौरान किसी प्रकार का मंत्र जैसे ॐ (ओम) का जाप कर सकते हैं। इस दौरान आप अपने मन में भगवान का स्मरण कर सकते हैं।

Q8. ध्यान की शुरुआत कैसे करें?

ध्यान का अभ्यास आप स्ट्रेचिंग के साथ कर सकते हैं। स्ट्रेचिंग करने के बाद आप एक आरामदायक स्थिति में बैठकर और अपनी आंखों को बंद करके किसी भी चीज पर अपने मन को फोकस करें। इससे आपके मन की ध्यान करने की शक्ति बढ़ेगी।

Q9. ध्यान का हमारे जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है?

ध्यान का हमारे जीवन पर बहुत ही लाभदायक तथा परिवर्तनकारी प्रभाव पड़ता है। जो व्यक्ति प्रतिदिन ध्यान का अभ्यास करता है; उसे तनाव से मुक्ति पाने, नकारात्मक विचारों को अपने मन से दूर रखने, समाज में उच्च व्यक्तित्व के साथ रहने, अन्य लोगों के साथ अच्छा भावनात्मक संबंध बनाने आदि में आसानी होती है।

Q10. क्या ध्यान करते समय सांस तेज, धीमी या बीच (मध्यम सांस) लेनी चाहिए?

ध्यान करते वक्त उसी गति से सांस लें, जिस प्रकार से आप को सहज महसूस हो, न तो सांस पर बहुत अधिक तेजी से लेना चाहिए और न ही बहुत ही धीमी गति से। मेरा मतलब है कि ध्यान करते वक्त नॉर्मल रूप से ही सांस लेना चाहिए।

Q11. शुरुवात के समय ध्यान में मन क्यों नहीं लगता है? 

अक्सर यह देखा जाता है कि जब आप शुरुआती तौर पर ध्यान करने का अभ्यास करना प्रारंभ करते हैं तब ध्यान में आपका मन नहीं लगता है। इसका कारण यह है कि ध्यान का अभ्यास शुरू करने से पहले आप अपने मन को नियंत्रित करना नहीं जानते हैं।

Q12. मेडिटेशन के लाभ क्या होते हैं?

Meditation करने से तनाव में मुक्ति प्राप्त करने में, याददाश्त बढ़ाने में, चिंता को कम करने में, आत्म जागरूकता बढ़ाने में और भावनात्मक स्वास्थ्य को बढ़ाने में, किसी प्रकार की लत से छुटकारा प्राप्त करने में तथा अच्छी नींद के लिए, रक्तचाप को कम करने के लिए और दर्द से छुटकारा प्राप्त करने में मदद मिलती है।

Q13. मेडिटेशन कब करना चाहिए?

आपको Meditation करने के लिए सुबह 4:00 से 6:00 बजे के बीच अथवा शाम को 6:00 से 7:00 के बीच समय चुनना चाहिए। हालांकि Meditation करने का कोई निश्चित समय नहीं होता है, लेकिन अगर आप Meditation का संपूर्ण लाभ प्राप्त करना चाहते हैं; तो इसे करने का सही समय तभी होता है, जब आपके चारों तरफ शांति रहती है। इसलिए सुबह का समय सही है।

Q14. मेडिटेशन कौन सी जगह पर किया जाता है?

Meditation हमेशा ऐसी जगह पर किया जाता है, जहां का वातावरण शांत हो और वहां पर किसी प्रकार का शोर नही होता हो। क्योंकि अगर आप शांत वातावरण में ध्यान नहीं लगाते हैं; तो इसका लाभ नहीं प्राप्त कर पाएंगे और आपको ध्यान मुद्रा में जाने में समस्या होगी।

Q15. मेडिटेशन कैसे किया जाता है?

Meditation शांत वातावरण में शांत मुद्रा में बैठकर और आंख बंद करके किया जाता है। इसके बारे में हमने इस आर्टिकल में पूरी जानकारी दे दी है।

Q16. मेडिटेशन कैसे करें और उसके फायदे क्या हैं? 

अपने घर पर मेडिटेशन कैसे करें और उसके फायदे क्या है? इसके बारे में हमने इस आर्टिकल में पूरी जानकारी दी है। अगर आपने उसे ध्यानपूर्वक नहीं पढ़ा है, तो उसे पुनः पढ़ सकते हैं।

Conclusion – Meditation Kaise Kare?

हम आशा करते हैं कि आपको ध्यान कैसे करें? से संबंधित हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा और हमें पूर्ण विश्वास है कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद, आप यह काफी अच्छे से समझ चुके होंगे कि Meditation Kaise Kare?

इस आर्टिकल में हमने आपको यह भी बताया है कि घर पर मेडिटेशन कैसे करें? जिससे आप अपने घर पर ही ध्यान का अभ्यास कर सकते हैं और यह आपके लिए काफी ज्यादा उपयोगी साबित होगा।

हालांकि अब आप समझ गए होंगे कि Meditation समस्त मनुष्य के लिए क्यों आवश्यक है? इसलिए हमारा सुझाव है कि आपको भी Meditation करना चाहिए, इससे आप तनावमुक्त रहेंगे और अपनी जिंदगी में नई ऊंचाइयों तक पहुंचेंगे।

हमने इस article में मेडिटेशन से संबंधित समस्त आवश्यक जानकारियों जैसे Meditation क्या है और कैसे करते हैं? तथा Meditation के लाभ क्या है, आदि के बारे में जानकारी प्रदान की है। 
आशा करता हूं कि आपको यह जानकारी पसंद आई होगी और अगर आपको मेडिटेशन कैसे किया जाता है? इससे संबंधित किसी भी प्रकार का सवाल पूछना है, तो आप हमसे कमेंट सेक्शन के द्वारा पूछ सकते हैं, हम यथासंभव आपके सवालों का जवाब देने की कोशिश करेंगे। धन्यवाद!

मेरा नाम Shyam Krishn Pandey है और मैं इस वेबसाइट (meinhindi.com) का Founder हूं। मैने यह वेबसाइट आप लोगों के साथ Make Money और Education से संबंधित जानकारी साझा करने के लिए बनाई है। आप हमसे किसी भी प्रकार का Question पूछने के लिए हमे Contact Us Page पर Massage कर सकते हैं।

Leave a Comment